• रिमोट सेंसिंग एप्लीकेशन्स सेंटर
  • रिमोट सेंसिंग एप्लीकेशन्स सेंटर

रिमोट सेंसिंग एप्लीकेशन्स सेंटर, उत्तर प्रदेश

विगत लगभग छः दशक पूर्व उपग्रहीय रिमोट सेन्सिंग तकनीक का प्रादुर्भाव हुआ तथा अन्य विकसित देशों के साथ ही भारत में भी रिमोट सेन्सिंग जैसी नवीनतम तकनीक का उपयोग किया जाने लगा। वर्ष 1981 में उत्तर प्रदेश सरकार ने सम्पूर्ण देश में अग्रणी स्थान प्राप्त करते हुए प्रदेश स्तर का प्रथम रिमोट सेन्सिंग एप्लीकेशन्स सेन्टर लखनऊ में स्थापित करने का निर्णय लिया। 14 मई, 1982 में इस केन्द्र की स्थापना एक स्वयात्तशासी संस्था के रूप में हुई।

और पढ़ें
माननीय मुख्यमंत्री

श्री योगी आदित्यनाथ

माननीय मुख्यमंत्री
उत्तर प्रदेश
अध्यक्ष, जनरल बॉडी, आरएसएसी-यूपी (पदेन)
मननीय मंत्री, विज्ञान एवं तकनीक

डॉ. दिनेश शर्मा

माननीय मंत्री,
विज्ञान एवं तकनीक
उत्तर प्रदेश
सरकार उपाध्यक्ष, जनरल बॉडी, आरएसएसी-यूपी (पदेन)
मननीय राज्यमंत्री, विज्ञान एवं तकनीक

श्रीमती नीलिमा कटियार

माननीय राज्यमंत्री,
विज्ञान एवं तकनीक
उत्तर प्रदेश
उपाध्यक्ष, जनरल बॉडी, आरएसएसी-यूपी (पदेन)
माननीय अध्यक्ष

श्री सुधाकर त्रिपाठी

माननीय अध्यक्ष,
शासी निकाय,
आरएसएसी-यूपी (पदेन)

कंप्यूटर और इमेज प्रोसेसिंग लैब

जियोस्पाटियल डोमेन में सूचना प्रणाली समाधान प्रदान करने हेतु प्रयोगशाला प्रयास करता है। डिविजन कार्यालय को सक्षम बनाता है कि तकनीक का इस्तेमाल कर कुछ नया कर सके, निष्पादन, अनुमान, संग्रह एवं सूचना को पुनः प्राप्त कर सके जो रिमोट सेंसिंग सेटलाइट एवं एंसीलरी स्पाटियल एवं गैर-स्पाटियल डाटा के प्लेथोरा से प्राप्त हो।

जल और मिट्टी विश्लेषण लैब

पर्यावरण और जल विज्ञान संबंधी जांच से संबंधित सभी परियोजनाओं में पानी की गुणवत्ता निरूपण करने को सबसे महत्वपूर्ण पैरामीटर में से एक मन गया है। महत्वपूर्ण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्रयोगशाला पर्याप्त रूप से आवश्यक बुनियादी और उन्नत उपकरणों से सुसज्जित है, उपयोग से पानी के नमूनों में बीओडी, सीओडी, पीएच, ईसी, आयनों, ऑक्साइड, कीटनाशक अवशेष और सीसा...

समाचार एवं कार्यक्रम