• रिमोट सेंसिंग एप्लीकेशन्स सेंटर
  • amritmahotsav

रिमोट सेंसिंग एप्लीकेशन्स सेंटर, उत्तर प्रदेश

विगत लगभग छः दशक पूर्व उपग्रहीय रिमोट सेन्सिंग तकनीक का प्रादुर्भाव हुआ तथा अन्य विकसित देशों के साथ ही भारत में भी रिमोट सेन्सिंग जैसी नवीनतम तकनीक का उपयोग किया जाने लगा। वर्ष 1981 में उत्तर प्रदेश सरकार ने सम्पूर्ण देश में अग्रणी स्थान प्राप्त करते हुए प्रदेश स्तर का प्रथम रिमोट सेन्सिंग एप्लीकेशन्स सेन्टर लखनऊ में स्थापित करने का निर्णय लिया। 14 मई, 1982 में इस केन्द्र की स्थापना एक स्वयात्तशासी संस्था के रूप में हुई।

और पढ़ें
माननीय मुख्यमंत्री

योगी आदित्यनाथ

माननीय मुख्यमंत्री
उत्तर प्रदेश
अध्यक्ष, जनरल बॉडी, आरएसएसी-यूपी (पदेन)
मननीय मंत्री, विज्ञान एवं तकनीक

डॉ. दिनेश शर्मा

माननीय मंत्री,
विज्ञान एवं तकनीक
उत्तर प्रदेश
सरकार उपाध्यक्ष, जनरल बॉडी, आरएसएसी-यूपी (पदेन)
मननीय राज्यमंत्री, विज्ञान एवं तकनीक

श्रीमती नीलिमा कटियार

माननीय राज्यमंत्री,
विज्ञान एवं तकनीक
उत्तर प्रदेश
उपाध्यक्ष, जनरल बॉडी, आरएसएसी-यूपी (पदेन)
माननीय अध्यक्ष

श्री सुधाकर त्रिपाठी

माननीय अध्यक्ष,
शासी निकाय,
आरएसएसी-यूपी (पदेन)
कार्यवाहक निदेशक

श्री एके अग्रवाल

कार्यवाहक निदेशक,
सदस्य सचिव,
सामान्य निकाय एवं शासी निकाय, आरएसएसी-यूपी

जियोइन्फारमेटिक्स सुविधाएँ

जियोस्पाटियल डोमेन में सूचना प्रणाली समाधान प्रदान करने हेतु प्रयोगशाला प्रयास करता है। डिविजन कार्यालय को सक्षम बनाता है कि तकनीक का इस्तेमाल कर कुछ नया कर सके, निष्पादन, अनुमान, संग्रह एवं सूचना को पुनः प्राप्त कर सके जो रिमोट सेंसिंग सेटलाइट एवं एंसीलरी स्पाटियल एवं गैर-स्पाटियल डाटा के प्लेथोरा से प्राप्त हो।

लिडार और बैथिमेट्री

लिडार और बैथिमेट्री

केंद्र में लिडार और सोनार डेटा प्रोसेसिंग के लिए एक अत्याधुनिक प्रयोगशाला है जिसमें मोबाइल और स्थलीय लिडार सर्वेक्षण से एकत्र किए गए 3D पॉइंट क्लाउड डाटा की प्रोसेसिंग के साथ जलमग्न क्षेत्र का सर्वेक्षण तथा बाढ़ नियंत्रण प्रबंधन, आदि का कार्य उच्च विभेदन उपग्रह आंकड़ों .....

और पढ़ें

समाचार एवं कार्यक्रम